Tum Kab Jaoge, Atthi Paath Ka Shabdarth By Avinash Ranjan Gupta

तुम कब जाओगे, अतिथि    
                                                                                                                                                            शरद जोशी  
शब्दार्थ
1.                     व्यंग्य मज़ाक
2.                     उपन्यास Novel
3.                     प्रतिष्ठा इज्ज़त
4.                     पटकथाएँ Screenplay
5.                     परिहास मज़ाक
6.                     पैनी तीक्ष्ण, Sharp
7.                     बेबाक बिना डरे
8.                     मेज़बान Host
9.                     विवश मजबूर
10.                 आगमन आना
11.                 निस्संकोच संकोचरहित, बिना संकोच के
12.                 नम्रता नत होने का भाव, स्वभाव में नरमी का होना
13.                 सतत निरंतर, लगातार
14.                 आतिथ्य आवभगत
15.                 एस्ट्रॉनाट्स अंतरिक्ष यात्री
16.                 अंतरंग घनिष्ठ, गहरा
17.                 आशंका खतरा, भय, डर
18.                 मेहमाननवाज़ी अतिथि सत्कार
19.                 छोर किनारा, सीमा
20.                 भावभीनी प्रेम से ओतप्रोत
21.                 आघात चोट, प्रहार
22.                 अप्रत्याशित आकस्मिक, अनसोचा
23.                 मार्मिक मर्मस्पर्शी
24.                 सामीप्य निकटता, समीपता
25.                 औपचारिक दिखावटी, रस्मी
26.                 निर्मूल मूलरहित, बिना जड़ का
27.                 कोनलों कोनों से
28.                 सौहार्द मैत्री, हृदय की सरलता
29.                 रूपांतरित जिसका रूप (आकार) बदल दिया गया हो
30.                 ऊष्मा गरमी, उग्रता
31.                 संक्रमण एक स्थिति या अवस्था से दूसरी में प्रवेश
गुंजायमान गूँजता हुआ

Comments

Popular Posts