Kartoos By Avinash Ranjan Gupta


KARTOOS PAATH KA SHABDARTH click here

निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एकदो पंक्तियों में दीजिए -
1. कर्नल कालिंज का खेमा जंगल में क्यों लगा हुआ था?
2. वज़ीर अली से सिपाही क्यों तंग आ चुके थे?
3. कर्नल ने सवार पर नज़र रखने के लिए क्यों कहा?
4. सवार ने क्यों कहा कि वज़ीर अली की गिरफ़्तारी बहुत मुश्किल है?

1.      उत्तर - कर्नल  कालिंज का खेमा गोरखपुर के जंगल में लगा हुआ था  क्योंकि वे वज़ीर अली को गिरफ़्तार करना चाहते थे।
2.      उत्तर- वज़ीर अली से सिपाही तंग आ चुके थे क्योंकि वर्षों से वज़ीर अली को पकड़ने की कोशिश की जा रही थी और हर बार  वज़ीर अली सिपाहियों की आँख में धूल झोंक कर फ़रार हो जाता था।
3.      उत्तर- कर्नल उस सवार की हर गतिविधियों से सचेत रहना चाहता था इसलिए कर्नल ने सवार पर नज़र रखने के लिए कहा ।
4.      उत्तर- सवार ने  कर्नल से कहा कि वज़ीर अली एक जाँबाज सिपाही है। वज़ीर अली की गिरफ़्तारी बहुत मुश्किल है क्योंकि वास्तव में, सवार खुद ही वज़ीर अली था।

लिखित
(क) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर (25—30 शब्दों में) लिखिए -
1. वज़ीर अली के अफ़साने सुनकर कर्नल को रॉबिनहुड की याद क्यों आ जाती थी?
2. सआदत अली कौन था? उसने वज़ीर अली की पैदाइश को अपनी मौत क्यों समझा?
3. सआदत अली को अवध के तख्त पर बिठाने के पीछे कर्नल का क्या मकसद था?
4. कंपनी के वकील का कत्ल करने के बाद वज़ीर अली ने अपनी हिफ़ाज़त कैसे की?
5. सवार के जाने के बाद कर्नल क्यों हक्काबक्का रह गया?

1.    उत्तर - वज़ीर अली के अफ़साने सुनकर कर्नल को रॉबिनहुड की याद आ जाती थी क्योंकि दोनों  जाँबाज थे। आत्म-सम्मान और स्वांभिमान की भावना उन दोनों में कूट-कूट कर भरी हुई थी। दोनों को लोगों की सहानुभूति प्राप्त थी। 
2.    उत्तर- सदाअत अली  वज़ीर अली का रिश्ते में चाचा और वास्तव में दुश्मन था। वह आसिफउददौला का भाई था। नवाब  आसिफउददौला के यहाँ लड़का होने की कोई भी उम्मीद नहीं थी। जब वज़ीर अली की पैदाइश हुई तो सदाअत अली ने उसे अपनी मौत मान ली। सदाअत अली खुद को आसिफउददौला के बाद अवध का नवाब समझ रहा था। पर वज़ीर अली के कारण उसका दावा कमज़ोर पड़  जा रहा था।
3.    उत्तर- कर्नल ने छल एवं बल का प्रयोग करके सदाअत अली को अवध के तख़्त पर बिठा दिया। सदाअत अली कर्नल का दोस्त था और ऐश पसंद आदमी भी इसलिए उसने कर्नल को अपनी आधी जायदाद दे दी और दस लाख नकद। जिससे अब दोनों मज़े में रहते हैं।
4.    उत्तर- कंपनी के वकील का कत्ल करने के बाद वज़ीर अली अपनी हिफाज़त के लिए अपने साथियों के आजमगढ़ की तरफ़ भाग गया। वहाँ के हुक्मरां ने उसे घागरा तह पहुँचा दिया। अब वह अफगानिस्तान के बादशाह शाहे ज़मा को हिंदुस्तान पर हमला करने की दावत दे रहा है और स्वयं नेपाल पहुँचने की कोशिश कर रहा है।
5.    उत्तर- सवार के जाने के बाद कर्नल को जिस बात की जानकारी हुई उससे वह हक्का-वक्का रह गया और यह लाज़िमी भी था। कर्नल अपनी फ़ौज के साथ जिस शख़्स को पकड़ने के लिए दिन-रात एक कर रहे थे वह खुद उसके खेमे में आकार दस कारतूस लेकर चलता बना।

(ख) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर (50—60 शब्दों में) लिखिए -
1. लेफ़्टीनेंट को ऐसा क्यों लगा कि कंपनी के खिलाफ़ सारे हिंदुस्तान में एक लहर दौड़ गई है?
2. वज़ीर अली ने कंपनी के वकील का कत्ल क्यों किया?
3. सवार ने कर्नल से कारतूस कैसे हासिल किए?
4. वज़ीर अली एक जाँबाज़ सिपाही था, कैसे? स्पष्ट कीजिए।

1.    उत्तर – लेफ़्टीनेंट को जब यह पता चला कि वज़ीर अली, टीपू सुल्तान और बंगाल के नवाब शमशुद्दौला इन सबने अफगानिस्तान ने बादशाह शाहे ज़मा को हिंदुस्तान पर हमला करने की दावत दी है तब उनहोंने यह अनुमान लगाया कि कंपनी के खिलाफ़ सारे हिंदुस्तान में एक लहर दौड़ गई है । 
2.    उत्तर- कंपनी ने  वज़ीर अली को उसके पद से हटाकर तीन लाख रुपए सालाना वज़ीफ़ा तय करके बनारस पहुँचा दिया। कुछ महीने बाद गवर्नर साहब ने  वज़ीर अली को कलकत्ता बुलाया। इस मामले की तह तक जाने के लिए वज़ीर अली बनारस में रहने वाले कंपनी के वकील के पास गया तो वकील ने उसे बुरा-भला सुना दिया। गुस्से में आकर वज़ीर अली ने कंपनी के वकील का कत्ल कर दिया। 
3.    उत्तर- सवार ने कर्नल से कहा कि उसे वज़ीर अली को गिरफ़्तार करने के लिए दस कारतूस चाहिए। यह सुनकर कर्नल को लगा कि यह ज़रूर उसका परम हितैषी और  वज़ीर अली का परम शत्रु है। कर्नल ने ज़्यादा सवाल-जवाब किए और बिना सच्चाई का पता लगाए उसे दस कारतूस दे दिए। जबकि, वास्तव में, सवार खुद ही वज़ीर अली था।
4.    उत्तर- इसमें कोई दो राय नहीं कि वज़ीर अली एक जाँबाज सिपाही था। निम्नलिखित कथनों से यह बात पूर्णत: स्पष्ट हो जाएगी-
-          उसने परिणाम की चिंता किए बिना कंपनी के वकील के हत्या कर दी।
-          अपने चंद जाँबाज सिपाहियों के साथ अंग्रेजों से लोहा ले रहा था।
-          उसने अफगानिस्तान ने बादशाह शाहे ज़मा को हिंदुस्तान पर हमला करने की दावत दी।
-          वह कर्नल के सामने आने से नही नहीं डरा।
-          उसके दम-खम के चर्चे पूरे खेमे में चल रही थी।
(ग) निम्नलिखित के आशय स्पष्ट कीजिए -
1. मुट्ठी भर आदमी और ये दमखम।
2. गर्द तो ऐसे उड़ रही है जैसे कि पूरा एक काफ़िला चला आ रहा हो मगर मुझे तो एक ही सवार नज़र आता है।

1.    उत्तर- इस गद्यांश का आशय यह है कि अपने चंद भरोसेमंद जाँबाज सिपाहियों के साथ वज़ीर अली अंग्रेजों से लोहा ले रहा था। उसे गिरफ़्तार करने के लिए जितनी भी कोशिशें की जा रही थीं सब विफल हो रही थीं।
2.    उत्तर– इस गद्यांश का आशय यह है कि अपने साहस और शोर्य का प्रदर्शन करते हुए स्वयं वजीर अली खुद निडर होकर मौत की तरफ़ बढ़ रहा है। उसका खेमे की तरफ़ आना ऐसा प्रतीत होता था, मानो एक ही आदमी पूरी फ़ौज का प्रतिनिधित्व कर रहा हो। 


Comments

Popular Posts