Vakyansh ke lie Ek Shabd Part-1 By Avinash Ranjan Gupta


1.      हाथी हाँकने का छोटा भाला — अंकुश
2.      जो कहा न जा सके  — अकथनीय
3.      जिसे क्षमा न किया जा सके — अक्षम्य
4.      जिस स्थान पर कोई न जा सके — अगम्य
5.      जो कभी बूढ़ा न हो — अजर
6.      जिसका कोई शत्रु न हो — अजातशत्रु
7.      जो जीता न जा सके — अजेय
8.      जो दिखाई न पड़े — अदृश्य
9.      जिसके समान कोई न हो — अद्वितीय
10.  हृदय की बातें जानने वाला — अन्तर्यामी
11.  पृथ्वी, ग्रहों और तारों आदि का स्थान — अंतरिक्ष
12.  दोपहर बाद का समय — अपराह्न
13.  जो सामान्य नियम के विरुद्ध हो — अपवाद
14.  जिस पर मुकदमा चल रहा हो/अपराध करने का  आरोप हो/अभियोग लगाया गया हो — अभियुक्त
15.  जो पहले कभी नहीं हुआ — अभूतपूर्व
16.  फेँक कर चलाया जाने वाला हथियार — अस्त्र
17.  जिसकी गिनती न हो सके — अगणित/अगणनीय
18.  जो पहले पढ़ा हुआ न हो — अपठित
19.  जिसके आने की तिथि निश्चित न हो — अतिथि
20.  कमर के नीचे पहने जाने वाला वस्त्र — अधोवस्त्र
21.  जिसके बारे में कोई निश्चय न हो — अनिश्चित
22.  जिसका भाषा द्वारा वर्णन असंभव हो — अनिर्वचनीय
23.  अत्यधिक बढ़ा–चढ़ा कर कही गई बात — अतिशयोक्ति
24.  सबसे आगे रहने वाला — अग्रणी
25.  जो पहले जन्मा हो — अग्रज
26.  जो बाद में जन्मा हो — अनुज
27.  जो इंद्रियों द्वारा न जाना जा सके — अगोचर
28.  जिसका पता न हो — अज्ञात
29.  आगे आने वाला — आगामी
30.  अण्डे से जन्म लेने वाला — अण्डज
31.  जो छूने योग्य न हो — अछूत
32.  जो छुआ न गया हो — अछूता
33.  जो अपने स्थान या स्थिति से अलग न किया जा सके — अच्युत
34.  जो अपनी बात से टले नहीं — अटल
35.  जिस पुस्तक में आठ अध्याय हों — अष्टाध्यायी
36.  आवश्यकता से अधिक बरसात — अतिवृष्टि
37.  बरसात बिल्कुल न होना — अनावृष्टि
38.  बहुत कम बरसात होना — अल्पवृष्टि
39.  इंद्रियों की पहुँच से बाहर — अतीन्द्रिय/ इंद्रयातीत
40.  सीमा का अनुचित उल्लंघन — अतिक्रमण
41.  जो बीत गया हो — अतीत
42.  जिसकी गहराई का पता न लग सके — अथाह
43.  आगे का विचार न कर सकने वाला — अदूरदर्शी
44.  जो आज तक से सम्बन्ध रखता है — अद्यतन
45.  आदेश जो निश्चित अवधि तक लागू हो — अध्यादेश
46.  जिस पर किसी ने अधिकार कर लिया हो — अधिकृत
47.  वह सूचना जो सरकार की ओर से जारी हो — अधिसूचना
48.  विधायिका द्वारा स्वीकृत नियम — अधिनियम
49.  अविवाहित महिला — अनूढ़ा
50.  वह स्त्री जिसके पति ने दूसरी शादी कर ली हो — अध्यूढ़ा
51.  दूसरे की विवाहित स्त्री — अन्योढ़ा
52.  गुरु के पास रहकर पढ़ने वाला — अन्तेवासी
53.  पहाड़ के ऊपर की समतल जमीन — अधित्यका
54.  जिसके हस्ताक्षर नीचे अंकित हैं अधोहस्ताक्षरकर्त्ता
55.  एक भाषा के विचारों को दूसरी भाषा में व्यक्त करना — अनुवाद
56.  किसी सम्प्रदाय का समर्थन करने वाला — अनुयायी
57.  किसी प्रस्ताव का समर्थन करने की क्रिया — अनुमोदन
58.  जिसके माता–पिता न हों — अनाथ
59.  जिसका जन्म निम्न वर्ण में हुआ हो — अंत्यज
60.  परम्परा से चली आई कथा — अनुश्रुति
61.  जिसका कोई दूसरा उपाय न हो — अनन्योपाय
62.  वह भाई जो अन्य माता से उत्पन्न हुआ हो — अन्योदर
63.  पलक को बिना झपकाए — अनिमेष/निर्निमेष
64.  जो बुलाया न गया हो — अनाहूत
65.  जो ढका हुआ न हो — अनावृत
66.  जो दोहराया न गया हो — अनावर्त
67.  पहले लिखे गए पत्र का स्मरण — अनुस्मारक
68.  पीछे–पीछे चलने वाला/अनुसरण करने वाला — अनुगामी
69.  महल का वह भाग जहाँ रानियाँ निवास करती हैं — अंतःपुर/रनिवास
70.  जिसे किसी बात का पता न हो — अनभिज्ञ/अज्ञ
71.  जिसका आदर न किया गया हो — अनादृत
72.  जिसका मन कहीं अन्यत्र लगा हो — अन्यमनस्क
73.  जो धन को व्यर्थ ही खर्च करता हो — अपव्ययी
74.  आवश्यकता से अधिक धन का संचय न करना — अपरिग्रह
75.  जो किसी पर अभियोग लगाए — अभियोगी
76.  जो भोजन रोगी के लिए निषिद्ध है — अपथ्य
77.  जिस वस्त्र को पहना न गया हो — अप्रहत
78.  न जोता गया खेत — अप्रहत
79.  जो बिन माँगे मिल जाए — अयाचित
80.  जो कम बोलता हो — अल्पभाषी/मितभाषी
81.  आदेश की अवहेलना — अवज्ञा
82.  जो बिना वेतन के कार्य करता हो — अवैतनिक
83.  जो व्यक्ति विदेश में रहता हो — अप्रवासी
84.  जो सहनशील न हो — असहिष्णु
85.  जिसका कभी अन्त न हो — अनंत
86.  जिसका दमन न किया जा सके — अदम्य
87.  जिसका स्पर्श करना वर्जित हो — अस्पृश्य
88.  जिसका विश्वास न किया जा सके — अविश्वस्त
89.  जो कभी नष्ट न होने वाला हो — अनश्वर
90.  जो रचना अन्य भाषा की अनुवाद हो — अनूदित
91.  जिसके पास कुछ न हो अर्थात् दरिद्र — अकिंचन
92.  जो कभी मरता न हो — अमर
93.  जो सुना हुआ न हो — अश्रव्य
94.  जिसको भेदा न जा सके — अभेद्य
95.  जो साधा न जा सके — असाध्य
96.  जो चीज इस संसार में न हो — अलौकिक
97.  जो बाह्य संसार के ज्ञान से अनभिज्ञ हो — अलोकज्ञ
98.  जिसे लाँघा न जा सके — अलंघनीय
99.  जिसकी तुलना न हो सके — अतुलनीय
100.                      जिसके आदि (प्रारम्भ) का पता न हो — अनादि
101.                      जिसकी सबसे पहले गणना की जाये — अग्रगण
102.                      सभी जातियों से सम्बन्ध रखने वाला — अन्तर्जातीय
103.                      जिसकी कोई उपमा न हो — अनुपम
104.                      जिसका वर्णन न हो सके — अवर्णनीय
105.                      जिसका खंडन न किया जा सके — अखंडनीय
106.                      जिसे जाना न जा सके — अज्ञेय
107.                      जो बहुत गहरा हो — अगाध
108.                      जिसका चिंतन न किया जा सके — अचिंत्य
109.                      जिसको काटा न जा सके — अकाट्य
110.                      जिसको त्यागा न जा सके — अत्याज्य
111.                      वास्तविक मूल्य से अधिक लिया जाने वाला मूल्य — अधिमूल्य
112.                      अन्य से संबंध न रखने वाला/किसी एक में ही आस्था रखने वाला — अनन्य
113.                      जो बिना अन्तर के घटित हो — अनन्तर
114.                      जिसका कोई घर (निकेत) न हो — अनिकेत
115.                      कनिष्ठा (सबसे छोटी) और मध्यमा के बीच की उँगली — अनामिका
116.                      मूलकथा में आने वाला प्रसंग, लघु कथा — अंतःकथा
117.                      जिसका निवारण न किया जा सके/जिसे करना आवश्यक हो — अनिवार्य
118.                      जिसका विरोध न हुआ हो या न हो सके — अनिरुद्ध/अविरोधी
119.                      जिसका किसी में लगाव या प्रेम हो — अनुरक्त
120.                      जो अनुग्रह (कृपा) से युक्त हो — अनुगृहीत
121.                      जिस पर आक्रमण न किया गया हो — अनाक्रांत
122.                      जिसका उत्तर न दिया गया हो — अनुत्तरित
123.                      अनुकरण करने योग्य — अनुकरणीय
124.                      जो कभी न आया हो (भविष्य) — अनागत
125.                      जो श्रेष्ठ गुणोँ से युक्त न हो — अनार्य
126.                      जिसकी अपेक्षा हो — अपेक्षित
127.                      जो मापा न जा सके — अपरिमेय
128.                      नीचे की ओर लाना या खींचना — अपकर्ष
129.                      जो सामने न हो — अप्रत्यक्ष/परोक्ष
130.                      जिसकी आशा न की गई हो — अप्रत्याशित
131.                      जो प्रमाण से सिद्ध न हो सके — अप्रमेय
132.                      किसी काम के बार–बार करने के अनुभव वाला  — अभ्यस्त
133.                      किसी वस्तु को प्राप्त करने की तीव्र इच्छा — अभीप्सा
134.                      जो साहित्य कला आदि में रस न ले — अरसिक
135.                      जिसको प्राप्त न किया जा सके – अप्राप्य
136.                      जो कम जानता हो — अल्पज्ञ
137.                      जो वध करने योग्य न हो — अवध्य
138.                      जो विधि या कानून के विरुद्ध हो — अवैध
139.                      जो भला–बुरा न समझता हो अथवा सोच–समझकर काम न करता हो — अविवेकी
140.                      जिसका विभाजन न किया जा सके — अविभाज्य/अभाज्य
141.                      जिसका विभाजन न किया गया हो — अविभक्त
142.                      जिस पर विचार न किया गया हो — अविचारित
143.                      जो कार्य अवश्य होने वाला हो — अवश्यंभावी
144.                      जिसको व्यवहार में न लाया गया हो — अव्यवहृत
145.                      जो स्त्री सूर्य भी नहीं देख पाती — असूर्यपश्या
146.                      न हो सकने वाला कार्य आदि — अशक्य
147.                      जो शोक करने योग्य नहीं हो — अशोक्य
148.                      जो कहने, सुनने, देखने में लज्जापूर्ण, घिनौना हो  — अश्लील
149.                      जिस रोग का इलाज न किया जा सके — असाध्य रोग/लाइलाज
150.                      जिससे पार न पाई जा सके — अपार
151.                      बूढ़ा–सा दिखने वाला व्यक्ति — अधेड़
152.                      जिसका कोई मूल्य न हो — अमूल्य
153.                      जो मृत्यु के समीप हो — आसन्नमृत्यु
154.                      किसी बात पर बार–बार जोर देना — आग्रह
155.                      वह स्त्री जिसका पति परदेश से लौटा हो — आगतपतिका
156.                      जिसकी भुजाएँ घुटनों तक लम्बी हों आजानुबाहु
157.                      मृत्युपर्यन्त — आमरण
158.                      जो अपने ऊपर निर्भर हो — आत्मनिर्भर/स्वावलंबी
159.                      व्यर्थ का प्रदर्शन — आडम्बर
160.                      पूरे जीवन तक — आजीवन
161.                      अपनी हत्या स्वयं करना — आत्महत्या
162.                      अपनी प्रशंसा स्वयं करने वाला — आत्मश्लाघी
163.                      कोई ऐसी वस्तु बनाना जिसको पहले कोई न जानता हो — आविष्कार
164.                      ईश्वर में विश्वास रखने वाला — आस्तिक
165.                      शीघ्र प्रसन्न होने वाला — आशुतोष
166.                      विदेश से देश में माल मँगाना — आयात
167.                      सिर से पाँव तक — आपादमस्तक
168.                      प्रारम्भ से लेकर अंत तक — आद्योपान्त
169.                      अपनी हत्या स्वयं करने वाला — आत्मघाती
170.                      जो अतिथि का सत्कार करता है — आतिथेय/मेजबान
171.                      दूसरे के हित में अपना जीवन त्याग देना — आत्मोत्सर्ग
172.                      जो बहुत क्रूर व्यवहार करता हो — आततायी
173.                      जिसका सम्बन्ध आत्मा से हो — आध्यात्मिक
174.                      जिस पर हमला किया गया हो — आक्रांत
175.                      जिसने हमला किया हो — आक्रांता
176.                      जिसे सूँघा न जा सके — आघ्रेय
177.                      जिसकी कोई आशा न की गई हो — आशातीत
178.                      जो कभी निराश होना न जाने — आशावादी
179.                      किसी नई चीज की खोज करने वाला — आविष्कारक
180.                      जो गुण–दोष का विवेचन करता हो — आलोचक
181.                      जो जन्म लेते ही गिर या मर गया हो — आजन्मपात
182.                      वह कवि जो तत्काल कविता कर सके — आशुकवि
183.                      पवित्र आचरण वाला — आचारपूत
184.                      लेखक द्वारा स्वयं की लिखी गई जीवनी — आत्मकथा
185.                      वह चीज जिसकी चाह हो — इच्छित
186.                      किन्हीँ घटनाओं का कालक्रम से किया गया वर्णन — इतिवृत्त
187.                      इस लोक से संबंधित — इहलौकिक
188.                      जो इन्द्र पर विजय प्राप्त कर चुका हो — इंद्रजीत
189.                      माँ–बाप का अकेला लड़का — इकलौता
190.                      जो इन्द्रियों से परे हो/जो इन्द्रियों के द्वारा ज्ञात न हो — इन्द्रियातीत
191.                      दूसरे की उन्नति से जलना — ईर्ष्या
192.                      उत्तर और पूर्व के बीच की दिशा — ईशान/ ईशान्य
193.                      पर्वत की निचली समतल भूमि — उपत्यका
194.                      दूसरे के खाने से बची वस्तु — उच्छिष्ट
195.                      किसी भी नियम का पालन नहीं करने वाला — उच्छृंखल
196.                      वह पर्वत जहाँ से सूर्य और चन्द्रमा उदित होते माने जाते हैं — उदयाचल
197.                      जिसके ऊपर किसी का उपकार हो — उपकृत
198.                      ऐसी जमीन जो अच्छी उत्पादक हो — उर्वरा
199.                      जो छाती के बल चलता हो (साँप आदि) — उरग
200.                      जिसने अपना ऋण पूरा चुका दिया हो — उऋण
201.                      जिसका मन जगत से उचट गया हो — उदासीन
202.                      जिसकी दोनों में निष्ठा हो — उभयनिष्ठ
203.                      ऊपर की ओर जाने वाला — उर्ध्वगामी
204.                      नदी के निकलने का स्थान — उद्गम
205.                      किसी वस्तु के निर्माण में सहायक साधन — उपकरण
206.                      जो उपासना के योग्य हो — उपास्य
207.                      मरने के बाद सम्पत्ति का मालिक — उत्तराधिकारी/वारिस
208.                      सूर्योदय की लालिमा — उषा
209.                      जिसका ऊपर कथन किया गया हो — उपर्युक्त
210.                      कुँए के पास का वह जल कुंड जिसमें पशु पानी पीते हैं — उबारा
211.                      छोटी–बड़ी वस्तुओं को उठा ले जाने वाला — उठाईगिरा
212.                      जिस भूमि में कुछ भी पैदा न होता हो — ऊसर
213.                      सूर्यास्त के समय दिखने वाली लालिमा — ऊषा
214.                      विचारों का ऐसा प्रवाह जिससे कोई निष्कर्ष न निकले — ऊहापोह
215.                      कई जगह से मिलाकर इकट्ठा किया हुआ — एकीकृत
216.                      सांसारिक वस्तुओं को प्राप्त करने की इच्छा  — एषणा
217.                      वह स्थिति जो अंतिक निर्णायक हो, निश्चित — एकांतिक
218.                      जो व्यक्ति की इच्छा पर निर्भर हो — ऐच्छिक
219.                      इंद्रियों को भ्रमित करने वाला — ऐंद्रजालिक
220.                      लकड़ी या पत्थर का बना पात्र जिसमें अन्न कूटा जाता है — ओखली

Comments

Popular Posts