Formal Aupcharik patra lekhan By Avinash Ranjan Gupta


प्रार्थना पत्र
नई उमंग एक प्रतिष्ठित समाज सेवी संस्था है। उसके संचालक को पत्र लिखकर शहर में फैल रहे नशाखोरी के खिलाफ़ जन-जागरण अभियान शुरू करने के लिए एक पत्र लिखिए।
दिनांक – 10/08/2016
सेवा में
संचालक महोदय
नई उमंग
समाज सेवी संस्था
बड़बिल, केंदुझर
विषय – बढ़ती नशाखोरी के खिलाफ़ जन-जागरण
महाशय
            आपकी संस्था नई उमंग राज्य स्तर पर अपनी एक अच्छी पहचान बना चुकी है। अपने परियोजनाओं और अभियानों को सफलतापूर्वक पूरा करने के कारण लोगों की जुबान पर  इस संस्था का नाम आम बात हो गई है। मैं आपका ध्यान एक अगले मिशन की तरफ आकर्षित करते हुए हमारे इलाके में फैले नशेखोरी की ओर लाना चाहता हूँ। प्राय:, सभी तबके के युवावर्ग इस नशे के दलदल में धँसते जा रहे हैं। कभी-कभी तो नशे की बदहवासी कुछ अनचाहे वारदातों को भी अंजाम देती हैं। हालाँकि, स्थानीय स्तर पर हम नशा मुक्ति आंदोलन एवं अन्य जागरूकता कार्यक्रम की शुरुआत कर चुके हैं परंतु हमें किसी सशक्त हाथ की कमी महसूस हो रही है।
            अत:, आपसे करबद्ध अनुरोध है कि मामले की गंभीरता को समझते हुए यथाशीघ्र एक सभा की तिथि निश्चित करें एवं सूचित करें।
धन्यवाद!
भवदीय
अविनाश रंजन गुप्ता
सचिव (बड़बिल क्लब)
  




स्कूल के बाहर खुली वस्तुएँ बेचने वालों के प्रति दंडात्मक रवैया अपनाने के लिए प्राचार्य महोदय को एक पत्र लिखिए कि इससे छात्रों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।
दिनांक – 10/08/2016
सेवा में,
प्राचार्य महोदय
डीएवी पब्लिक स्कूल
बोलानी, केंदुझर
विषय - खुली वस्तुएँ बेचने वालों के प्रति दंडात्मक कार्रवाई
महाशय
            निवेदन यह है कि मैं अविनाश रंजन गुप्ता, इस विद्यालय का प्रधान बालक हूँ और अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाह करते हुए मैं आपका ध्यान स्कूल के बाहर बिक्री होने वाली अपौष्टिक खाद्य सामाग्री की तरफ आकर्षित करना चाहता हूँ। ये विक्रेता आस-पास के झोंपड़-पट्टी वाले इलाके में रहते हैं जहाँ कुछ दिनों पहले महामारी फैलने की खबर अखबार और स्थानीय समाचार चैनलों में आ रही थी। इनके द्वारा बिक्री की जाने वाली वस्तुओं पर मक्खियाँ सदैव भिनभिनाती रहती हैं जिससे बीमारियाँ फैलने का खतरा बढ़ जाता है। कुछ ही दिनों पहले एक छात्र इन वस्तुओं को खाकर खाद्य विषायण (Food poisoning) का शिकार हो गया साथ ही साथ विद्यालय की गरिमा को भी ठेस पहुँची।
            अत:, श्रीमान से अनुरोध है कि अन्य शिक्षकों की मदद से ये दुकानें जल्दी-से जल्दी हटवाने की कोशिश करें ताकि छात्रों का स्वास्थ्य सही रहे।
धन्यवाद!
आपका आज्ञाकारी
अविनाश रंजन गुप्ता
प्रधान बालक
कक्षा – दसवीं
क्रमांक – 01




चैक बुक खो जाने के संबंध में।
दिनांक - 10/08/2016
सेवा में,
श्रीमान् शाखा प्रबंधक,
भारतीय स्टेट बैंक
बोलानी
विषय - चैक बुक खो जाने के संबंध में । 
मान्यवर,
            मैं आपके बैंक का पुराना ग्राहक हूँ। मेरी चैक-बुक संख्या - 35654895 खो गई है। मेरे और मेरे खाते से संबंधित अन्य विवरण इस प्रकार हैं -
स्वयं का नाम  - अविनाश रंजन गुप्ता
पिता का नाम  - राजराम गुप्ता 
बचत खाता संख्या – 3004235014
मोबाइल नम्बर - +919861367760
सविनय निवेदन है कि उक्त चैकबुक से संबधित चैकों का भुगतान न करें एवं मुझे नई चैकबुक जारी करने की कृपा करें।
सधन्यवाद!
भवदीय
अविनाश रंजन गुप्ता
निवासी शांति नगर








शिकायती पत्र
नगरपालिका के अधिकारी को वर्षा का जल भरने का शिकायती पत्र।
दिनांक – 10/08/2016
सेवा में,
मुख्य अधिकारी 
नगर पालिका 
बोलानी, केंदुझर
विषय – वर्षा का जल-भराव के संदर्भ में
महाशय
            हम शांति नगर, बोलानी के निवासी आपका ध्यान अपने क्षेत्र में हुए जल-भराव की तरफ आकर्षित करना चाहते हैं। हमारा इलाका कुछ निचले स्तर पर है, कुछ ही दूरी पर एक बड़ासा नाला है जो गंदगी से भरा हुआ है। वर्षा के दिनों में यह नाला पानी से लबालब भर जाता है और चारों ओर इसका गंदा पानी फैलने लगता है। इसके अलावा सड़क के गड्ढों में भी जल भराव हो जाता है जिस वजह से वर्षा के दिनों में दुर्घटना आम बात हो जाती है। ऐसी स्थिति में बीमारियाँ फैलने का खतरा भी बढ़ जाता है।
            अत:, आपसे अनुरोध है कि हमारी समस्या को दूर करने के लिए नगरपालिका स्वास्थ्य एवं सफ़ाई कर्मचारियों को उचित आदेश दें।
धन्यवाद!
निवासी
शांति नगर, बोलानी








क्षेत्र के पोस्टमास्टर को डाक व्यवस्था में लापरवाही की सूचना देते हुए पत्र लिखिए।
दिनांक – 10/08/2016
सेवा में,
मुख्य पोस्टमास्टर 
मुख्य डाक घर  
बोलानी, केंदुझर
विषय – डाक वितरण में लापरवाही 
महाशय
            हम शांति नगर, बोलानी के निवासी अपने क्षेत्र में डाक वितरण में लगातार हो रहे लापरवाही  की ओर आपका ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं। हमारे यहाँ के डाकिये का कुछ अता-पता नहीं रहता। कुछ ही दिन पहले हमारे इलाके का एक युवक वायु सेना में कमांडेंट पद के लिए चयनित हुआ था। उसने अपना परीक्षाफल ऑनलाइन पहले ही देख लिया था परंतु नियुक्ति पत्र डाक के द्वारा अभी तक नहीं पहुँचा है। अनेक महत्त्वपूर्ण कागज़ात सही समय पर न पहुँचने पर व्यापारियों, विद्यार्थियों एवं आम जनता को काफी दिक्कतें हो रही हैं।
            अत:, आपसे अनुरोध है कि हमारी समस्या को दूर करने के लिए डाकघर के कर्मचारियों को उचित आदेश दें ताकि डाक वितरण सुचारु रूप से संपादित हो सकें।
धन्यवाद!
निवासी
शांति नगर, बोलानी



परीक्षा के दिनों में रात्रि में देर तक बज रहे तेज़ गानों के संबंध में स्थानीय पुलिस स्टेशन में एक पत्र प्रेषित कीजिए। 

                                                                                                                        दिनांक - 10/08/2016
सेवा में,
श्रीमान् थाना प्रभारी महोदय,
बोलानी पुलिस स्टेशन
बोलानी
विषय - रात्रि में देर तक बज रहे तेज़ गानों के संबंध में । 
मान्यवर,
            हम विद्यार्थियों के लिए मार्च और अप्रैल का महीना परीक्षा की दृष्टि से महत्त्वपूर्ण होता है। ऐसे में पड़ोस में स्थित दुकानों एवं होटलों में देर रात तक तेज़ आवाज़ में गाने बजाए जा रहे हैं जो अधिक अंश तक अश्लील भी होते हैं  जिसके कारण हमें अपने अध्ययन में परेशानी हो रही है। हमारे और कॉलोनी के अन्य निवासियों द्वारा ध्वनि कम किए जाने के अनुरोधों के बावजूद भी उनमें कोई सुधार नहीं पाया गया है। आश्चर्य है कि उन्हें न तो इससे हो रहे ध्वनि प्रदूषण की ही चिंता है और न ही विद्यार्थियों को हो रही परेशानी की। 
अतएव, आपसे करबद्ध अनुरोध है कि इसे रोकने के लिए तत्काल कार्रवाई करें । 
सधन्यवाद!
निवेदक
अविनाश रंजन गुप्ता
निवासी शांति नगर



अपने इलाके में फैले गंदगी की सूचना देते हुए स्वास्थ्य अधिकारी को पत्र लिखिए।
दिनांक - 10/08/2016
सेवा में,
श्रीमान् स्वास्थ्य अधिकारी,
नगर निगम
बोलानी, केंदुझर
विषय – क्षेत्र की नियमित सफ़ाई न होने के संदर्भ में ।  
महाशय
            मैं  अविनाश रंजन गुप्ता, बोलानी में स्थित कॉलोनी  शांति नगर का निवासी हूँ । आपसे नम्र निवेदन है कि पिछले कई महीनों से हमारे इस क्षेत्र में सफ़ाई की उचित व्यवस्था नहीं होने के कारण कूड़ेदानों में कूड़ा सड़ रहा है। पूरा क्षेत्र दुर्गन्ध से भरा हुआ है। नालियों की भी सफ़ाई न होने के कारण उनका गंदा पानी सड़क पर बहने लगा है। मक्खीमच्छरों और गंदगी ने आस-पास रहनेवाले निवासियों और यात्रियों का जीवन दूभर कर रखा है। यदि समय रहते शीघ्र ही कार्यवाही नहीं की गई तो बीमारियाँ भी फैल सकती हैं। हमारे इलाके का जमादार भी लुका-छिपी का खेल खेलने में माहिर है।
अतः, आपसे निवेदन है कि सफ़ाई की उचित व्यवस्था शीघ्र  ही करवाने की कृपा करें।
सधन्यवाद!
भवदीय
अविनाश रंजन गुप्ता
शांति नगर







आकस्मिक अवकाश व मुख्यालय छोड़ने की अनुमति के सन्दर्भ में । 
दिनांक - 10/08/2016
सेवा में,
श्रीमान् मुख्य सचिव,
भारतीय इस्पात प्राधिकरण लिमिटेड
बोलानी ओर्स माइंस,
बोलानी
विषय - आकस्मिक अवकाश व मुख्यालय छोड़ने के सन्दर्भ में । 
महोदय,
    सविनय निवेदन है कि मैं अविनाश रंजन गुप्ता, इलेक्ट्रिकल विभाग का मुख्य अधिकारी, अत्यावश्यक अपरिहार्य घरेलू कार्यवश दिनांक 11/08/2016 को अपनी सेवाएँ देने में असमर्थ हूँ ।
    अतएव, दिनांक 11/08/2016 को  एक दिन का आकस्मिक अवकाश एवम् मुख्यालय छोड़ने की अनुमति प्रदान कर अनुगृहीत करें।   
  सधन्यवाद ! 
भवदीय    
अविनाश रंजन गुप्ता
मुख्य अधिकारी
इलेक्ट्रिकल विभाग


अपने नियंत्रण अधिकारी को पदोन्नति हेतु एक विभागीय पत्र लिखिए।
दिनांक - 10/08/2016
सेवा में,
मुख्य नियंत्रण अधिकारी,
आपूर्ति विभाग   
राँची, झारखंड
विषय – पदोन्नति के संबंध में।  
महोदय,
    सविनय निवेदन है कि मैं तापस मोंडल, पिछले 4 सालों से अवर लिपिक के पद पर कार्यरत हूँ। मैं अपने प्रथम दिन से ही सारे कार्यालयी कार्यों का निष्पादन पूरी गहनता, लगन, निश्चित समयानुसार और ईमानदारी से करता आया हूँ। मेरे कार्यों में काम के प्रति मेरी निष्ठा और समर्पण स्पष्ट झलकती है। मेरे सहकर्मी मेरे काम, व्यवहार और समय की पाबंदी से संतुष्ट रहते हैं। मेरे शैक्षिक अर्हता भी पदोन्नति के लिए पर्याप्त है। श्रीमान, आपकी व्यस्त दिनचर्या और अत्यधिक कार्य बोझ से दबे रहने के कारण मेरी योग्यता और पदोन्नति की ओर आपका ध्यान न जाना स्वाभाविक बात है परंतु कर्मठ कर्मचारियों को उचित पद प्रदान करना भी आप जैसे महानुभावों के कार्यालयी उत्तरदायित्व का एक हिस्सा है।  
            अत:, आपसे करबद्ध अनुरोध है कि मेरे कार्यों, योग्यता एवं शैक्षिक अर्हता का सूक्ष्म निरीक्षण कर मेरे पदोन्नति पर विचार करें। 
   सधन्यवाद ! 
भवदीय    
तापस मोंडल
अवर लिपिक



समस्त कर्मियों को हिंदी भाषा में काम करने हेतु राजभाषा अधिकारी द्वारा जारी पत्र।
दिनांक - 10/08/2016
राजभाषा विभाग
गृह मंत्रालय
भारत सरकार
नई दिल्ली, दिल्ली

महोदय,
    आगामी हिंदी दिवस के शुभ अवसर पर आप सभी को अग्रिम हार्दिक शुभकामनाएँ। इस दिवस पर आपसे अपेक्षा की जाती है कि आप प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी 14 सितंबर को हिंदी दिवस का पालन करेंगे तथा हिंदी भाषा से जुड़े अनेक कार्यक्रमों का आयोजन भी करेंगे। हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार एवं संवर्धन के लिए हिंदी पखवाड़े (15 दिनों का समय) के अंतर्गत अपने कार्यालय के सभी कर्मचारियों को वाचन तथा लेखन कार्यों का निष्पादन हिंदी भाषा में करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।
सादर,

भवदीय

(राजनाथ सिंह)
गृह मंत्री, भारत सरकार  


मुख्य नियंत्रण अधिकारी
आपूर्ति विभाग
राँची, झारखंड
पिन -123456 



संपादकीय पत्र
समाचार पत्र के संपादक को पत्र लिखकर बताइए कि सड़क के किनारे खड़े पेड़ों की कटाई किस प्रकार एक व्यवसाय का रूप लेती जा रही है।
दिनांक - 10/08/2016
कमरा संख्या – W-242
बोलानी, केंदुझर

सेवा में,
संपादक
हिंदुस्तान
बोलानी, केंदुझर
विषय – पेड़ों की अवैध कटाई की सूचना
महाशय
            मैं आपके दैनिक समाचार पत्र हिंदुस्तान का एक नियमित पाठक हूँ। मुझे लगता है कि हिंदुस्तान एक ऐसा समाचार पत्र है जो अपनी सशक्त और बेबाक लेखनी के माध्यम से जन-जागरण का कार्य बखूबी करता है। इसी को मद्देनजर रखते हुए मैं आपका ध्यान हमारे इलाके में सड़क के किनारे हो रहे पेड़ों की अवेध कटाई की तरफ आकर्षित करना चाहता हूँ। ये पेड़ पथिकों को घनी छाया और फल देते हैं फिर भी स्थानीय निकायों ने पेड़ों को काटने का काम इसलिए ज़ोरों पर लगा रखा है क्योंकि उनका मानना है कि वर्षा के दिनों में तेज़ आँधी-तूफान आने की वजह से ये उखड़ सकते हैं जिससे कोई दुर्घटना और रास्ता जाम हो सकता है। परंतु, गौरतलब यह है कि न तो ये राष्ट्रीय राजमार्ग है और न ही यहाँ यान-वाहनों की आवा-जाही लगी रहती है।
            अत:, आपसे अनुरोध है कि अपने किसी विश्वसनीय पत्रकार को यहाँ भेजकर ज़मीनी हकीकत से रू-ब-रू हों और सच्चाई को अपने अखबार में छापे ताकि लोगों में चेतना और अपराधियों में डर का संचार हो।
धन्यवाद!
निवेदक 
अविनाश रंजन गुप्ता
शांति नगर
बोलानी


स्वरचित कविता के प्रकाशन के संबंध में किसी पत्रिका/पत्र  के संपादक को पत्र
दिनांक - 10/08/2016
कमरा संख्या – W-242
बोलानी, केंदुझर

सेवा में,
संपादक
हिंदुस्तान
बोलानी, केंदुझर
विषय – स्वरचित कविता के प्रकाशन के संबंध में।  
महाशय
            मैं स्वरचित लघु कविता आपके पत्र में प्रकाशनार्थ भेज रहा हूँ। आशा है आप इसे अपने पत्र में प्रकाशित कर मुझे प्रोत्साहित करने की कृपा करेंगे।         मैं यह प्रमाणित करता हूँ  कि यह रचना स्वरचित रचना है एवं इसे अन्यत्र किसी भी पत्र या पत्रिका में प्रकाशनार्थ नहीं भेजा गया है।
            आपकी स्वीकृति मुझे प्रेरणा देगी, इसी आशा के साथ।  
धन्यवाद!
निवेदक
अविनाश रंजन गुप्ता

संलग्न:  स्वरचित कविता शीर्षक कुछ तो कर ऐसा








Comments

Popular Posts