Tum Kab Jaoge, Atithi Paath Ka Bhasha Karya By Avinash Ranjan Gupta

वाक्यांशों के लिए एक शब्द
1.       अतिथि = जिसके आने की कोई तिथि न हो 
2.       आर्थिक = धन से संबंधित 
3.       अप्रत्याशित  = जिसकी आशा न हो  
4.       मार्मिक = मर्म (हृदय) को छूने वाला 

विलोम  शब्द
1.       विगत # गत
2.       उच्च # निम्न
3.       सम्मान # असम्मान
4.       समूल # निर्मूल

अनेकार्थी शब्द
1.       चरण  = छंद, पैर 
2.       लगन = शादी, मन की एक अवस्था  
3.       मूल = जड़, मुख्य
4.       मगर = किन्तु, मगमच्छ 
5.       पन्ना = पृष्ठ(Page), रत्न

उपसर्ग एवं प्रत्यय
उपसर्ग
1.          सम्- संभावना
2.          वि विगत, विश्वास 
3.          निर्  निर्मूल 
4.          - अतिथि, अज्ञान, अप्रत्याशित, अदृश्य
5.          आगमन, आशंका 
6.          निस् निस्संकोच
7.          सा सादर
8.          अनु अनुमान
9.          स्व स्वरूप
10.      सपरिवार
11.      उप उपवास  
प्रत्यय
1.          एँतारीख़ें  
2.          इत आंकित,रूपांतरित, परिचित, सुरक्षित
3.          ता  नम्रता, देवता, सहनशीलता 
4.          ई  निजी। लंबी, आखिरी, रिश्तेदारी, नौकरी, फ़िल्मी   
5.          आहट  - मुसकराहट  
6.          इक  आर्थिक, मार्मिक, औपचारिक
7.          दार  शानदार 
8.          प्य  सामीप्य  
9.          पन  अकेलापन 
10.      कर पड़कर, धुलकर, दिखाकर
11.      इका  पत्रिका 
12.      आन ढलान
13.      वाली पड़नेवाली
14.      आई महँगाई, विदाई
15.      त्व  देवत्व, व्यक्तित्व
16.      कार गोलाकार
17.      मान गुंजायमान
18.      पूर्ण सम्मानपूर्ण
19.      इम अंतिम

पर्यायवाची
1.            चरण           - पद, पाँव, पैर
2.                अतिथि        - पाहुन, अभ्यागत, मेहमान 
3.                     पत्नी           - भार्या, सहचारिणी, सीता
4.                सुबह           - प्रत्युष, प्रभात, उषाकाल 
5.                     राक्षस          - दानव, निशाचर, दुष्ट
6.                दोस्त           - मित्र, सखा, बंधु 
7.              घर            आलयनिकेतनसदन

Comments

Popular Posts