Shukrataare Ke Saman Paath Ka Shabdarth By Avinash Ranjan Gupta

शुक्रतारे के समान
                                                                        स्वामी आनंद  
शब्दार्थ
1.             मूल जड़
2.             निदेशन  - Direction
3.             सचिव Secretary
4.             प्रतिभा गुण
5.             अभिभूत  - प्रसन्न
6.             ऊर्जा Energy
7.             लगन पूरे दिल से
8.             रेखाचित्र  - साहित्य  की एक विधा
9.             उकेरा प्रसतुत करना
10.         दिनचर्या  - Daily routine
11.         समर्पण Dedication
12.         निरभिमान जिसमें अभिमान न हो
13.         ईमानदारी Honesty
14.         अभिमान Garv
15.         शख्सियत Personality
16.         तमाम कुल
17.         आभाप्रभा चमक, तेज़
18.         नक्षत्रमंडल तारा समूह
19.         हम्माल बोझ उठानेवाला, कुली
20.         पीर महात्मा, सिद्ध
21.         बावर्ची खाना पकानेवाला, रसोइया
22.         भिश्ती मशक से पानी ढोनेवाला व्यक्ति
23.         खर गधा, घास
24.         आसेतुहिमाचल सेतुबंध रामेश्वर से हिमाचल तक विस्तीर्ण
25.         दुलारे प्यारे
26.         ब्योरा विवरण
27.         कालापानी आजीवन कैद की सज़ा पाए कैदियों को रखने का स्थान, वर्तमान अंडमान निकोबार द्वीप समूह
28.         रूबरू आमनेसामने
29.         धुरंधर प्रवीण, उत्तम गुणों से युक्त
30.         टीकाटिप्पणी व्याख्या, आलोचना
31.         चौकसाई चौकस रहना, नज़र रखना
32.         कट्टर दृढ़, जिसे अपने मत या विश्वास का अधिक आग्रह हो
33.         लाड़ला प्यारा, दुलारा
34.         जिगरी दोस्त घनिष्ठ मित्र
35.         पेशा व्यवसाय
36.         स्याह काला
37.         सल्तनत राज्य, हुकूमत
38.         व्याख्यान भाषण, वक्तृता, किसी विषय की व्याख्या या टीका करना
39.         फुलस्केप कागज़ का एक आकार
40.         चौथाई चौथा भाग
41.         अग्रगण्य प्रमुख, सबसे पहले गिना जानेवाला
42.         विवरण वर्णन, व्याख्या
43.         अघतन अब तक का, वर्तमान से संबंध रखनेवाला
44.         गाद तलछट, गाढ़ी चीज़
45.         सराबोर तरबतर, डूबा हुआ
46.         अनवरत लगातार
47.         सानी बराबरी करनेवाला, उसी जोड़ का दूसरा
48.         अनगिनत जिसे गिना न जा सके
49.         सिलसिला क्रम
50.         अनायास बिना किसी प्रयास के, आसानी से
51.         पीरबावर्ची भिश्तीखर’ — सभी प्रकार के कार्यों को सफलतापूर्वक कर सकने में समर्थ व्यक्ति
श्रीमती बेसेंट (एनीबेसेंट) स्वाधीनता आंदोलन की नेता। इन्होंने होमरूल लीग और थियोसोफिकल सोसाइटी की स्थापना की

Comments

Popular Posts