Teesari Kasam Paath Ka Shabdarth By Avinash Ranjan Gupta

तीसरी कसम के शिल्पकार शैलेंद्र 
                                                                    प्रहलाद अग्रवाल
            शब्दार्थ
1.             हासिल – प्राप्त
2.             वय – उम्र
3.             शौक – चाह
4.             तानाशाह – Dictator
5.             हकीकत – सच्चाई
6.             फ़साना – कहानी
7.             अर्से – लंबे समय तक
8.             बेहतर – Better
9.             कामयाब – सफल
10.         बदौलत – की वजह से
11.         जोखिम – Risk
12.         अंतराल के बाद
13.         अभिनीत अभिनय किया गया
14.         सर्वोत्कृष्ट सबसे अच्छा
15.         सैल्यूलाइड कैमरे की रील में उतार चित्र पर प्रस्तुत करना
16.         सार्थकता सफलता के साथ
17.         कलात्मकता कला से परिपूर्ण
18.         संवेदनशीलता भावुकता
19.         शिद्दत तीव्रता
20.         अनन्य परम / अत्यधिक
21.         तन्मयता तल्लीनता
22.         पारिश्रमिक मेहनताना
23.         याराना मस्ती दोस्ताना अंदाज़
24.         आगाह सचेत
25.         आत्मसंतुष्टि अपनी तुष्टि
26.         बमुश्किल बहुत कठिनाई से
27.         वितरक प्रसारित करने वाले लोग
28.         नामज़द विख्यात
29.         नावाकिफ़ अनजान
30.         इकरार सहमति
31.         मंतव्य इच्छा
32.         उथलापन सतही / नीचा
33.         अभिजात्य परिष्कृत
34.         भावप्रवण भावनाओं के भरा हुआ
35.         दुरूह कठिन
36.         उकड़ू घुटने मोड़कर पैर के तलवों के सहारे बैठना
37.         सूक्ष्मता बारीकी
38.         स्पंदित संचालित करना / गतिमान
39.         लालायित इच्छुक
40.         टप्परगाड़ी अर्धगोलाकार छप्पर युक्त बैलगाड़ी
41.         हुज़ूम भीड़
42.         प्रतिरूप छाया
43.         रूपांतरण किसी एक रूप से दूसरे रूप में परिवर्तित करना
44.         लोकतत्त्व लोक संबंधी
45.         त्रासद दुखद
46.         ग्लोरीफ़ाई गुणगान / महिमामंडित करना
47.         वीभत्स भयावह
48.         जीवनसापेक्ष जीवन के प्रति
49.         धनलिप्सा धन की अत्यधिक चाह
50.         प्रक्रिया प्रणाली
51.         बाँचै पढ़ना
52.         भाग भाग्य
53.         भरमाये भ्रम होना / झूठा आश्वासन
54.         समीक्षक समीक्षा करने वाला
55.         कलामर्मज्ञ कला की परख करने वाला
56.         चर्मोत्कर्ष ऊँचाई के शिखर पर
57.         खालिस शुद्ध
58.         भुच्च निरा / बिलकुल
किंवदंती कहावत

Comments

Popular Posts