Hindi Language Promotion and Development: Vakyansh ke lie Ek Shabd By Avinash Ranjan Gupta

Monday, 2 May 2016

Vakyansh ke lie Ek Shabd By Avinash Ranjan Gupta

1.      साँप–बिच्छू के जहर या भूत–प्रेत के भय को मंत्रों से झाड़ने वाला — ओझा
2.      जो उपनिषदों से संबंधित हो — औपनिषदिक
3.      जो मात्र शिष्टाचार, व्यावहारिकता के लिए हो — औपचारिक
4.      विवाहिता पत्नी से उत्पन्न संतान — औरस
5.      हड्डियों का ढाँचा — कंकाल
6.      दो व्यक्तियों के बीच परस्पर होने वाली बातचीत — कथोपकथन
7.      बर्तन बेचने वाला — कसेरा
8.      जिसे अपने मत या विश्वास का अधिक आग्रह हो — कट्टर
9.      जिसकी कल्पना न की जा सके — कल्पनातीत
10.  ऐसा अन्न जो खाने योग्य न हो — कदन्न
11.  हाथी का बच्चा — कलभ
12.  कर्म में तत्पर रहने वाला — कर्मठ
13.  एक के बाद एक — क्रम
14.  कान में कही जाने वाली बात — कानाबाती/कानाफूसी
15.  सरकार का वह अंग जो कानून का पालन करता है — कार्यपालिका
16.  शृंगारिक वासनाओं के प्रति आकर्षित — कामुक
17.  जो दुःख या भय से पीड़ित हो — कातर
18.  अपनी गलती स्वीकार करने वाला — कायल
19.  दूसरे की हत्या करने वाला — कातिल
20.  बाल्यावस्था और युवावस्था के बीच की अवस्था — किशोरावस्था
21.  जो बात पूर्वकाल से लोगोंमें सुनकर प्रचलित हो — किंवदंती/जनश्रुति
22.  अपने काम के बारे में कुछ निश्चय न करने वाला — किंकर्तव्यविमूढ़
23.  वृक्ष लता आदि से ढका स्थान — कुञ्ज
24.  जिस लड़के का विवाह न हुआ हो — कुमार
25.  ऐसी लड़की जिसका विवाह न हुआ हो — कुमारी
26.  बुरे कार्य करने वाला — कुकर्मी
27.  बुरे मार्ग पर चलने वाला — कुमार्गी
28.  जिसकी बुद्धि बहुत तेज हो — कुशाग्रबुद्धि
29.  जो अच्छे कुल में उत्पन्न हुआ हो — कुलीन
30.  वह व्यक्ति जिसका ज्ञान अपने ही स्थान तक सीमित हो — कूपमंडूक
31.  किए गए उपकार को मानने वाला — कृतज्ञ
32.  किए गए उपकार को न मानने वाला — कृतघ्न
33.  जो धन को अत्यधिक कंजूसी से खर्च करता हो  — कृपण
34.  जिसने संकल्प कर रखा है — कृतसंकल्प
35.  जो केन्द्र से हटकर दूर जाता हो — केन्द्रापसारी
36.  जो केन्द्र की ओर उन्मुख हो — केन्द्राभिसारी/केन्द्राभिमुख
37.  सर्प के शरीर से निकली हुई खोली — केंचुली
38.  जो क्षमा किया जा सके — क्षम्य
39.  जिसका कुछ ही समय में नाश हो जाए — क्षणभंगुर
40.  जहाँ धरती और आकाश मिलते हुए दिखाई देते हैं  — क्षितिज
41.  जो भूख मिटाने के लिए बेचैन हो — क्षुधातुर
42.  भूख से पीड़ित — क्षुधार्त
43.  वह स्त्री जिसका पति अन्य स्त्री के साथ रात को रहकर प्रातः लौटे — खंडिता
44.  आकाशीय पिंडों का विवेचन करने वाला — खगोलशास्त्री
45.  जो व्यक्ति अपने हाथ में तलवार लिए रहता है — खड्गहस्त
46.  नायक का प्रतिद्वन्द्वी — खलनायक
47.  जहाँ से गंगा नदी का उद्गम होता है — गंगोत्री
48.  शरीर का व्यापार करने वाली स्त्री — गणिका
49.  जो आकाश को छू रहा हो — गगनस्पर्शी
50.  पहले से चली आ रही परम्परा का अनुपालन करने वाला — गतानुगतिक
51.  ग्रहण करने योग्य — ग्राह्य
52.  गीत गाने वाला/वाली — गायक/गायिका
53.  गीत रचने वाला — गीतकार
54.  हर पदार्थ को अपनी ओर आकृष्ट करने वाली शक्ति — गुरुत्वाकर्षण
55.  जो बात गूढ़ (रहस्यपूर्ण) हो — गूढ़ोक्ति
56.  जीवन का द्वितीय आश्रम — गृहस्थाश्रम
57.  गायों के खुरों से उड़ी धूल — गोधूलि
58.  गायों के रहने का स्थान — गौशाला
59.  घास खोदकर जीवन–निर्वाह करने वाला — घसियारा
60.  शरीर की हानि करने वाला — घातक
61.  जो घृणा का पात्र हो — घृणित/घृणास्पद
62.  जिसके सिर पर चंद्रकला हो (शिव) — चंद्रचूड़/चंद्रशेखर
63.  वह कृति जिसमें गद्य और पद्य दोनों हों — चंपू
64.  चक्र के रूप में घूमती हुई चलने वाली हवा — चक्रवात
65.  ब्याज का वह प्रकार जिसमें मूल ब्याज पर भी ब्याज लगता है — चक्रवृद्धि ब्याज
66.  जिसके हाथ में चक्र हो — चक्रपाणि
67.  चार भुजाओं वाला — चतुर्भुज
68.  कार्य करने की इच्छा — चिकीर्षा
69.  लंबे समय तक जीने वाला — चिरंजीवी
70.  जो चिरकाल से चला आया है — चिरंतन
71.  जो बहुत समय तक ठहर सके — चिरस्थायी
72.  चिंता (चिंतन) करने योग्य बात — चिंतनीय/चिंत्य
73.  जिस पर चिह्न लगाया गया हो — चिह्नित
74.  चार पैरों वाला — चौपाया/चतुष्पद
75.  जो गुप्त रूप से निवास कर रहा हो — छद्मवासी
76.  दूसरों के केवल दोषोँ को खोजने वाला — छिद्रान्वेषी
77.  पत्थर को गढ़ने वाला औजार — छैनी
78.  एक स्थान से दूसरे स्थान पर चलने वाला — जंगम
79.  पेट की अग्नि — जठराग्नि
80.  बारात ठहरने का स्थान — जनवासा
81.  जो जल बरसाता हो — जलद
82.  जो जल से उत्पन्न हो — जलज
83.  वह पहाड़ जिसके मुख से आग निकले — ज्वालामुखी
84.  जल में रहने वाला जीव — जलचर
85.  जनता द्वारा चलाया जाने वाला तंत्र —जनतंत्र
86.  उम्र में बड़ा — ज्येष्ठ
87.  जो चमत्कारी क्रियाओं का प्रदर्शन करताहो — जादूगर
88.  जिसने आत्मा को जीत लिया हो — जितात्मा
89.  जानने की इच्छा रखने वाला — जिज्ञासु
90.  इन्द्रियों को वश में करने वाला — जितेन्द्रिय
91.  किसी के जीवन–भर के कार्यों का विवरण — जीवन–चरित्र
92.  जो जीतने के योग्य हो — जेय
93.  जेठ (पति का बड़ा भाई) का पुत्र — जेठोत
94.  स्त्रियों द्वारा अपनी इज्जत बचाने के लिए किया गया सामूहिक अग्नि  — प्रवेश — जौहर
95.  ज्ञान देने वाली — ज्ञानदा
96.  जो ज्ञान प्राप्त करने की इच्छा रखता हो — ज्ञानपिपासु
97.  बहुत गहरा तथा बहुत बड़ा प्राकृतिक जलाशय — झील
98.  जहाँ सिक्कों की ढलाई होती है — टकसाल 
99.  बर्तन बनाने वाला — ठठेरा
100.                      जनता को सूचना देने हेतु बजाया जाने वाला वाद्य — ढिँढोरा
101.                      जो किसी भी गुट में न हो — तटस्थ/निर्गुट
102.                      हल्की नींद — तन्द्रा
103.                      जो किसी कार्य या चिन्तन में डूबा हो — तल्लीन
104.                      ऋषियों के तप करने की भूमि — तपोभूमि
105.                      उसी समय का — तत्कालीन
106.                      वह राजकीय धन जो किसानों की सहायताहेतु दिया जाता है — तक़ाबी
107.                      जिसमें बाण रखे जाते हैं — तरकश/तूणीर
108.                      जो चोरी–छिपे माल लाता ले जाता हो — तस्कर
109.                      किसी को पद छोड़ने के लिए लिखा गया पत्र  — त्यागपत्र
110.                      तर्क करने वाला व्यक्ति — तार्किक
111.                      दैहिक, दैविक और भौतिक सुख — तापत्रय
112.                      तैर कर पार जाने की इच्छा — तितीर्षा
113.                      ज्ञान में प्रवेश का मार्गदर्शक — तीर्थंकर
114.                      वह व्यक्ति जो छुटकारा दिलाता है/रक्षा करता है — त्राता
115.                      दुखान्त नाटक — त्रासदी
116.                      भूत, वर्तमान और भविष्य को जानने/देखने वाला — त्रिकालज्ञ/त्रिकालदर्शी
117.                      गंगा, जमुना और सरस्वती नदी का संगम — त्रिवेणी
118.                      जिसके तीन आँखे हैं — त्रिनेत्र
119.                      वह स्थान जो दोनों भृकुटिओं के बीच होता है  — त्रिकुटी
120.                      तीन महीने में एक बार — त्रैमासिक
121.                      जो धरती पर निवास करता हो — थलचर
122.                      पति और पत्नी का जोड़ा — दंपती
123.                      दस वर्षों की समयावधि — दशक
124.                      गोद लिया हुआ पुत्र — दत्तक
125.                      संकुचित विचार रखने वाला — दक़ियानूस
126.                      धन जो विवाह के समय पुत्री के पिता से प्राप्त हो — दहेज
127.                      जंगल में फैलने वाली आग — दावानल
128.                      दिन भर का कार्यक्रम — दिनचर्या
129.                      दिखने मात्र को अच्छा लगने वाल — दिखावटी
130.                      जो सपना दिन (दिवा) में देखा जाता है — दिवास्वप्न
131.                      दो बार जन्म लेने वाला (ब्राह्मण, पक्षी, दाँत) — द्विज
132.                      जिसने दीक्षा ली हो — दीक्षित
133.                      अनुचित बात के लिए आग्रह — दुराग्रह
134.                      बुरे भाव से की गई संधि — दुरभिसंधि
135.                      वह कार्य जिसको करना कठिन हो — दुष्कर
136.                      दो विभिन्न भाषाएँ जानने वाले व्यक्तियों को एक–दूसरे की बात समझाने वाला — दुभाषिया
137.                      जो शीघ्रता से चलता हो — द्रुतगामी
138.                      जिसे कठिनाई से जाना जा सके — दुर्ज्ञेय
139.                      जिसको पकड़ने में कठिनाई हो — दुरभिग्रह/दुग्राह्य
140.                      पति के स्नेह से वंचित स्त्री — दुर्भगा
141.                      जिसे कठिनता से साधा/सिद्ध किया जा सके — दुस्साध्य
142.                      जो कठिनाई से समझ में आता है — दुर्बोध
143.                      वह मार्ग जो चलने में कठिनाई पैदा करता है — दुर्गम
144.                      जिसमें खराब आदतें हों — दुर्व्यसनी
145.                      जिसको मापना कठिन हो — दुष्परिमेय
146.                      जिसको जीतना बहुत कठिन हो — दुर्जेय
147.                      वह बच्चा जो अभी माँ के दूध पर निर्भर है — दुधमुँहा
148.                      बुरे भाग्य वाला — दुर्भाग्यशाली
149.                      जिसमें दया भावना हो — दयालु
150.                      जिसका आचरण बुरा हो — दुराचारी
151.                      दूध पर आधारित रहने वाला — दुग्धाहारी
152.                      जिसकी प्राप्ति कठिन हो — दुर्लभ
153.                      जिसका दमन करना कठिन हो — दुर्दमनीय
154.                      आगे की बात सोचने वाला व्यक्ति — दूरदर्शी
155.                      देश से द्रोह करने वाला — देशद्रोही
156.                      देह से सम्बन्धित — दैहिक
157.                      देव के द्वारा किया हुआ — दैविक
158.                      प्रतिदिन होने वाला — दैनिक
159.                      धन से सम्पन्न — धनी
160.                      जो धनुष को धारण करता हो — धनुर्धर
161.                      धन की इच्छा रखने वाला — धनेच्छु
162.                      गरीबों के लिए दान के रूप में दिया जाने वाला अन्न–धन आदि — धर्मादा
163.                      जिसकी धर्म में निष्ठा हो — धर्मनिष्ठा
164.                      किसी के पास रखी हुई दूसरे की वस्तु — धरोहर/थाती
165.                      मछली पकड़कर आजीविका चलाने वाला — धीवर
166.                      जो धीरज रखता हो — धीर
167.                      धुरी को धारण करने वाला अर्थात् आधारभूत कार्यों में प्रवीण — धुरंधर
168.                      अपने स्थान पर अटल रहने वाला — ध्रुव
169.                      ध्यान करने योग्य अथवा लक्ष्य — ध्येय
170.                      ध्यान करने वाला — ध्याता/ध्यानी
171.                      जिसका जन्म अभी–अभी हुआ हो — नवजात
172.                      गाय को दुहते समय बछड़े का गला बाँधने की रस्सी जो गाय के पैरों में बाँधी जाती है — नवि
173.                      जो नया–नया आया है — नवागंतुक
174.                      जिसका उदय हाल ही में हुआ है — नवोदित
175.                      जो आकाश में विचरण करता है — नभचर
176.                      सम्मान में दी जाने वाली भेँट — नजराना
177.                      जिस स्त्री का विवाह अभी हुआ हो — नवोढ़ा
178.                      ईश्वर में विश्वास न रखने वाला — नास्तिक
179.                      पुराना घाव जो रिसता रहता हो — नासूर
180.                      जो नष्ट होने वाला हो — नाशवान/नश्वर
181.                      नरक के योग्य — नारकीय
182.                      वह स्थान या दुकान जहाँ हजामत बनाई जाती है — नापितशाला
183.                      किसी से भी न डरने वाला — निडर/निर्भीक
184.                      जो कपट से रहित है — निष्कपट
185.                      जो पढ़ना–लिखना न जानता हो — निरक्षर
186.                      जिसका कोई अर्थ न हो — निरर्थक
187.                      जिसे कोई इच्छा न हो — निस्पृह
188.                      रात में विचरण करने वाला — निशाचर
189.                      जिसका आकार न हो — निराकार
190.                      केवल शाक, फल एवं फूल खाने वाला या जो मांस न खाता हो — निरामिष
191.                      जिससे किसी प्रकार की हानि न हो — निरापद
192.                      जिसके अवयव न हो — निरवयव
193.                      बिना भोजन (आहार) के — निराहार
194.                      जो यह मानता है कि संसार में कुछ भी अच्छा होने की आशा नहीं है — निराशावादी
195.                      जो उत्तर न दे सके — निरुत्तर
196.                      जिसके कोई दाग/कलंक न हो — निष्कलंक
197.                      जिसमें कोई कंटक/अड़चन न हो — निष्कंटक
198.                      जिसका अपना कोई शुल्क न हो — निःशुल्क
199.                      जिसके संतान न हो — निःसंतान
200.                      जिसका अपना कोई स्वार्थ न हो — निस्स्वार्थ
201.                      व्यापारिक वस्तुओं को किसी दूसरे देश में भेजने का कार्य — निर्यात
202.                      जिसको देश से निकाल दिया गया हो — निर्वासित
203.                      बिना किसी बाधा के — निर्बाध
204.                      जो ममत्व से रहित हो — निर्मम
205.                      जिसकी किसी से उपमा/तुलना न दी जा सके  — निरुपम
206.                      जो निर्णय करने वाला हो — निर्णायक
207.                      जिसे किसी चीज की लालसा न हो — निष्काम
208.                      जिसमें किसी बात का विवाद न हो — निर्विवाद
209.                      जो निंदा करने योग्य हो — निन्दनीय
210.                      जिसमें किसी प्रकार का विकार उत्पन्न न हो  — निर्विकार
211.                      जो लज्जा से रहित हो — निर्लज्ज
212.                      जिसको भय न हो — निर्भय
213.                      जो नीति जानता हो — नीतिज्ञ
214.                      रंगमंच पर पर्दे के पीछे का स्थान — नेपथ्य
215.                      आजीवन ब्रह्मचर्य का व्रत करने वाला — नैष्ठिक
216.                      जो नीति के अनुकूल हो — नैतिक
217.                      जो न्यायशास्त्र की बात जानता हो — नैयायिक
218.                      घृत, दुग्ध, दधि, शहद व शक्कर से बनने वाला पदार्थ — पंचामृत
219.                      पक्षपात करने वाला — पक्षपाती
220.                      पदार्थ का सबसे छोटा कण — परमाणु