Hindi Language Promotion and Development: Soor our Tulasi Ke Pad By Avinash Ranjan Gupta

Monday, 18 April 2016

Soor our Tulasi Ke Pad By Avinash Ranjan Gupta



सूर और तुलसी के पद
सूरदास एवं तुलसीदास
पाठ में से
1.     प्रश्नोत्तर
क.  यशोदा मैया से कृष्ण अपने बालों के न बढ़ने को लेकर शिकायत कर रहे हैं
ख.  कृष्ण अपनी चोटी न बढ़ने यशोदा मैया को उलाहना देते हुए कह रहे हैं कि उन्होंने अपनी माता की बातों को मानकर मक्खन रोटी खाना छोड़ दिया ताकि उनके केश बलराम की तरह लंबे, घने और मोटे हो जाए पर इतने दिनों तक कच्चा दूध पीने के बाद भी उनकी चोटी नहीं बढ़ रही है।
ग.    बलशब्द का प्रयोग कृष्ण के बड़े भाई बलराम के लिए किया गया है। उनकी चोटी मोटी, लंबी, काली और घनी है।
घ.    महाराज दशरथ के चारों पुत्र अपने लिए चाँद ला देने की ज़िद करते हैं।  
ङ.   महाराज दशरथ के चारों पुत्र जब खुशी से उछलने लगते हैं और तालियाँ बजाने लगते हैं तो ऐसे दृश्य को देखकर सभी माताओं का हृदय प्रसन्न हो जाता है।
पाठ के बहाने
1.     मौखिक उत्तर
क. सूरदास एवं तुलसीदास के पदों में बच्चों का किसी वस्तु के लिए हठ करना और शिकायत करना जैसी बाल सुलभ क्रियायों का वर्णन किया गया है।
ख. बच्चे अपनी परछाई देखकर डर जाते होंगे क्योंकि उन्हें ऐसा लगता होगा कि ये काले रंग की कौन-सी चीज़ है जो मेरा पीछा ही नहीं छोड़ रही है।
ग. तुलसीदास अपने इस पद के माध्यम से यह इच्छा प्रकट कर रहे हैं कि  महाराज दशरथ के चारों पुत्रों की बाल-सुलभ क्रियायों की स्मृति सदा उनके मन में रहे।
समझ की बात
1.     पंक्तियों का भाव
क.  इन पंक्तियों के माध्यम से सूरदास श्रीकृष्ण के बाल्यावस्था का वर्णन कर रहे हैं जिसमें  श्रीकृष्ण अपनी माता यशोदा से शिकायत कर रहे हैं कि तुम्हारे कहने पर मैंने कितनी बार कच्चा दूध पिया है फिर भी मेरी चोटी नहीं बढ़ रही है।
ख.  इन पंक्तियों के माध्यम से तुलसीदास महाराज दशरथ के चारों पुत्रों के बाल्यावस्था का वर्णन कर रहे हैं जिसमें चारों पुत्र उनके खेलने के लिए चाँद ला देने की ज़िद करते हैं और अपने ही प्रतिबिंब अर्थात् परछाई से डर जाते हैं तो कभी खुशी से उछलने लगते हैं और तालियाँ बजाने लगते हैं ऐसे दृश्य को देखकर सभी माताओं का हृदय प्रसन्न हो जाता है 
2.     पदों के अंश
क.  कबहूँ रिसिआइ कहैं हठिकै पुनि लेत सोई जेहि लागि अरैं।
ख.  तू तो कहति बल की बैनी ज्यों ह्वें है लांबी मोटी ।

आपकी अभिव्यक्ति
1.     एक बार मैंने कुछ पुस्तकों के लिए ज़िद की थी जब घरवालों को पता चला कि ये पुस्तकें वाकई अच्छी हैं तो उन्होंने मेरी लिए वो पुस्तकें खरीद दीं।
2.     मैं अपनी योग्यता की तुलना दूसरे बच्चों के साथ करता हूँ और जब मुझे ऐसा लगता है कि आज के जमाने के हिसाब से मैं काफी पीछे हूँ तो एड़ी चोटी का ज़ोर लगाकर अपने आपको योग्य बनाने में लग जाता हूँ। ऐसा करना गलत भी है और सही भी, बस ये तुलना करने वाले की मानसिकता पर निर्भर करता है।
3.     अजहूँ = अभी भी
ससि = चाँद
मोहिं = मुझे
निहारि = देखकर
जोटी = जोड़ी
चारि = चार

शब्दार्थ
1.                             अजहूँ = अभी भी
2.                             ससि = चाँद
3.                             मोहिं = मुझे
4.                             निहारि = देखकर
5.                             जोटी = जोड़ी
6.                             चारि = चार
7.                             कबहिं = कब
8.                             किती = कितनी
9.                             पिवत = पीना
10.                        बैनी = चोटी
11.                        ज्यों = जैसा
12.                        काढ़त = बाल बनाते हुए
13.                        गुहत = बाँधते हुए
14.                        न्हववात = नहाते हुए
15.                        नागिनी = नाग
16.                        भुईं = भूमि
17.                        लोटी = लोटना
18.                        काछो = कच्चा
19.                        पिवावति = पिलाना
20.                        पचि-पचि = जैसे-तैसे
21.                        चिरजीवौ = हमेशा जीवित रहें।
22.                        दोउ = दोनों
23.                        हरि = कृष्ण
24.                        हलधर = बलराम
25.                        आरि = ज़िद
26.                        प्रतिबिंब = परछाई
27.                        करताल = तालियाँ
28.                        बजाइकै = बजाकर
29.                        मातु = माता
30.                        सबै = सब
31.                        मोद = प्रसन्नता
32.                        अवधेश = दशरथ
33.                        बिहरैं = विचरण करना