Hindi Language Promotion and Development: Sona By Avinash Ranjan Gupta

Monday, 18 April 2016

Sona By Avinash Ranjan Gupta

सोना
महादेवी वर्मा

1.                             स्मृति – याद
2.                             पौत्री – Grand  daughter  
3.                             गत = बीता हुआ
4.                             सघन – घना/ Dense
5.                             संबद्ध – जुड़ा होना
6.                             विस्तृत = बड़ा
7.                             स्वीकार – Accept
8.                             शैशवास्था – Infancy
9.                             लघु – छोटा
10.                        पानीदार – Watery
11.                        सुवर्णा – अच्छे रंग वाली
12.                        कौतुक – उत्सुकता
13.                        साथिन – सहेली
14.                        संतुलित – Balanced
15.                        चौकड़ी – हिरणों का दौड़ना
16.                        संकुलता – Squeezed
17.                         दूब – लंबी घास
18.                        अनिर्वचनीय = जिसे कहा न जा सके
19.                        जिज्ञासा – जानने की इच्छा/ Curiosity
20.                        एकटक – बिना पलक झपकाए
21.                        अभिव्यक्ति – Expression
22.                        परिस्थिति – Situation
23.                        स्वामी – मालिक
24.                        सभीत – डरकर
25.                        विस्मय – कौतुहल
26.                        स्वीकृति – Acceptance
27.                        रुष्ट – रूठना
28.                        सख्य – मित्रता
29.                        तन्मय – किसी काम में खो जाना
30.                        रोएँ – लोम
31.                        ताम्रवर्णी – ताँबे के रंग का
32.                        सुडौल – सुंदर
33.                        खुर – Hoof  
34.                        ग्रीवा – गर्दन
35.                        बंकिम – टेढ़ा
36.                        लचीली – Flexible
37.                        स्निग्धता – चमक
38.                        शावक- शेर/हिरन का बच्चा
39.                        स्फुरण – उद्दीप्त
40.                        स्वजाति – अपनी जाति
41.                        सूना – निर्जन
42.                        प्रतीक्षा – इंतज़ार
43.                        मार्मिक – हृदय से जुड़ा हुआ
44.                        संगियों – साथियों
45.                        सृष्टि – संसार
46.                        संरक्षण – देखभाल
47.                        उदर – पेट
48.                        आश्वस्त – निश्चिंत
49.                        अहिंसक – जो हिंसा न करे
50.                        उपलब्धि – Achievement
51.                        स्तब्ध – ठहरी हुई
52.                        नित्य नैमित्तिक – प्रतिदिन का कार्य
53.                        कोलाहल – शोर
54.                        उल्लास – खुशी
55.                        करुण – दुख
56.                        संयोग – इत्तफाक , Co-incident


पाठ में से
1.     क. सोना को बच्चे बहुत अच्छे लगते थे। हाँ
ख. वह स्नेही स्वभाव की थी। हाँ
ग. उसकी आँखें भूरी थीं। नहीं
घ. वह बाकी जानवरों से दोस्ती नहीं करना चाहती थी। नहीं   
ङ. वह लेखिका का अभाव महसूस करने लगी थी। हाँ
2.     क. सोना एक हिरन है जो बेहद खूबसूरत है। उसकी ताम्रवर्णी रोएँ, सुडौल टांगें, खुरों का कालापन, लचीली और बंकिम गर्दन, पीठ की स्निग्धता तथा आँखों के चारों ओर खिंची कज्जल और आँखें नीलम रूपी बल्ब की तरह लगती थीं। सोना के सौंदर्य के ये विविध पक्ष उसकी सुंदरता को शत प्रतिशत सुंदर बनाने के लिए पर्याप्त हैं।
ख. लेखिका के घर में हिरन, कुत्ते, कुतिया, बिल्ली, गिलहरी आदि जानवर हैं जिनके नाम क्रमश: सोना, हेमंत,वसंत, फ्लोरा, गोधूली और गिल्लू है।
ग. फ्लोरा सोना के संरक्षण में अपने बच्चों को छोड़कर आश्वस्त रहने लगी क्योंकि वह सोना के अहिंसक प्रवृत्ति से भली-भाँति परिचित हो चुकी थी।
घ. फ्लोरा और महादेवी के अभाव में अक्सर सोना कंपाउंड से बाहर निकल जाया करती थी इस वजह से माली ने उसे मैदान में एक लंबी रस्सी से बाँधना शुरू कर दिया। एक दिन वह भूल गई कि उसके गले में रस्सी बँधी है, और  उसने एक लंबी छलाँग लगाई। रस्सी के कारण वह मुँह के बल धरती पर आ गिरी और  उसके प्राण पखेरू उड़ गए।
ङ – लेखिका यात्रा पर फ्लोरा को ले गई क्योंकि फ्लोरा लेखिका के बिना नहीं रह सकती थी।
आपकी बात
1.     क. गृहकार्य
ख.  गृहकार्य
ग.    लेखिका एक अत्यंत ही भद्र एवं सुशील आचरण वाली महिला हैं। वो शिक्षा की अहमयित जानती हैं इसलिए उन्होंने छात्राओं के लिए छात्रावास बनवाया है। उन्हें प्रकृति की प्रत्येक कृति से प्रेम है इसलिए उन्होंने बहुत सारे पशुओं को भी पाल रखा है।
घ.    जी नहीं, पशु-पक्षियों को पिंजरे में कैद करके रखना सर्वथा अनुचित है क्योंकि इस दुनिया के प्रत्येक जीवधारी को स्वतंत्र रहने का अधिकार है। अगर हम किसी भी जीवधारी को कैद करके रखते हैं तो अमानवीय प्रवृत्ति को बढ़ावा देते हैं।
ङ.   पशु और मानव दोनों में संवेदना होती है। दोनों को सुख-दुख का अहसास होता है परंतु मनुष्य चिंतनशील प्राणी है। वह अपने मस्तिष्क का प्रयोग कर विकास की ओर गति करता दीखता है जबकि पशुओं  में ये प्रवृत्ति नहीं होती है।
समझ की बात
1.     क. कुछ ऐसी जानने की इच्छा जिसको कहा न जा सके।
ख.  प्रतिदिन के कामों में किसी एक और काम का जुड़ जाना। 
ग.    अपने मातृत्व धर्म का पालन करते हुए अपने बच्चों की देख-रेख में व्यस्त हो जाना।
घ.    जब बहुत दिनों के बाद स्वामी अपने पालतू जानवरों के बीच आया तो जानवरों में खुशी का संचार हो गया।

2.     एकांकी में जीवन लाल जिस मरहम की बात करते हैं वो दहेज के पाँच हज़ार रुपए हैं जिसे वे कमला के भाई प्रमोद से वसूलना चाहते हैं। उन्हें यह मरहम नहीं मिल पाता क्योंकि ऐसा ही मरहम उनकी बेटी गौरी  के ससुराल वाले उनसे चाहते थे।

आपकी बात
1.     राजेश्वरी – हँसमुख, संवेदनशील, स्नेही, स्पष्टवादी, व्यवहारकुशल, विवेकी, कोमलहृदय। इन सब गुणों का प्रयोग राजेश्वरी के लिए करना उचित है क्योंकि  वह एक आदर्श नारी है।
जीवन लाल - गुस्सैल, घमंडी, लोभी, कठोरहृदयी।  इन दुर्गुणों का प्रयोग जीवन लाल के लिए किया जाना उचित है क्योंकि प्रमोद के साथ उनका व्यवहार उनके आचरण और चरित्र का स्पष्ट चित्रा अंकित करता है।
2.     दहेज लेन-देन की गलत प्रथा के लिए मैं उन माता-पिता को दोषी मानता हूँ जो लाखों रुपए अपनी बेटी के दहेज़ के लिए संचित करते हैं परंतु उतने पैसे उसकी पढ़ाई-लिखाई में खर्च नहीं करते जिसकी वजह से वर-पक्ष दहेज की माँग कर बैठते हैं। अगर हम दहेज़ प्रथा को समूल नष्ट करना चाहते हैं तो हमें शिक्षा और विद्या का ज़्यादा से ज़्यादा प्रचार-प्रसार ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में करना होगा।  
समझ की बात
1.      
क.  प्रस्तुत कथन का अर्थ यह है कि हम उस समय तक दूसरों की पीड़ा का अनुभव नहीं कर सकते जब तक हमें वैसी पीड़ा न हो। इस पाठ में भी जीवन लाल ने प्रमोद के साथ कठोर व्यवहार किया बिना यह जाने कि प्रमोद को कितना कष्ट होता होगा।  उन्हें प्रमोद के कष्टों का अनुभव उस समय हुआ जब गौरी अपने ससुराल से विदा होकर नहीं आई।
ख.  प्रस्तुत कथन में यह बात स्पष्ट हो जाती है कि यहाँ गर्व-अभिमान की बात हो रही है। जीवन लाल का यह मानना है कि उन्होंने अपनी बेटी गौरी की शादी में कोई भी कसर नहीं छोड़ी। पर्याप्त दहेज़ और समान देकर उन्होंने लड़के वालों का मुँह बंद कर दिया है।    
2.     अन्याय करने वाले के साथ अन्याय सहने वाला भी दोषी होता है क्योंकि इससे अन्यायी को शह मिलती है और वह दूसरों पर भी अन्याय करने लगता है। उदाहरण के तौर पर अगर एक मालिक अपने नौकर से दिन-रात काम करवाए और कम-से-कम वेतन दे तो यह भी अन्याय है जिसका प्रतिकार नौकर को अवश्य करना चाहिए।  
3.     एकांकी में कोष्ठक में लिखे गए संकेतों से वक्ता, श्रोता, स्थान, काल आदि की जानकारी मिल जाती है जिससे एकांकी को पूर्णत: समझने में मदद मिलती है।
4.     क्या होता यदि
क.  यदि रमेश बाबू घर पर होते तो जीवन लाल  और प्रमोद  के बीच हुए वार्तालाप आवेशपूर्ण न होते।
ख.  यदि राजेश्वरी कमला और प्रमोद का साथ न देती तो कमला की विदाई लगभग असंभव हो जाती।
ग.    यदि जीवन लाल की अपनी बेटी की विदाई हो गई होती तो उनका घमंड कभी भी चूर-चूर न होता और न ही राजेश्वरी की वाणी उनकी आँखें खोल पातीं।