Hindi Language Promotion and Development: Dukh Me N Haar Mano By Avinash Ranjan Gupta

Monday, 18 April 2016

Dukh Me N Haar Mano By Avinash Ranjan Gupta



दुख में न हार मानो
ललित किशोर लोहिमी
1.     मनुष्य ईश्वर को मंदिरों, वनों और कुंजों में ढूँढ़ता रहता है।
2.     कविता में कवि गरीबों और मज़लूमों के मुख से निकलने वाले पीड़ापूर्ण शब्द आह! की बात कर रहे हैं।
3.     बाजे-बजाने से कवि का अभिप्राय, धार्मिक अनुष्ठानों में ईश्वर को रिझाने के लिए नाना प्रकार के वाद्य यंत्रों के माध्यम से मंत्रोच्चार करना है।
4.     कवि के अनुसार जब कोई व्यक्ति विपरीत परिस्थितियों में भी डट कर समस्याओं का सामना करता है तथा लोकहित के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर करने को तत्पर रहता है, वही  सही मायनों में सुयश का अधिकारी बन पाता है।
5.     कवि करबद्ध होकर ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि उनके मन में ईश्वर ऐसा प्रभाव भर दें कि सुख में न ही वह अतिउत्साहित हो और दुख में न ही हार मान जाए। सुख-दुख दोनों ही स्थिति में वह सदा ईश्वर का स्मरण करता रहे।
समझ की बात
1.     बेबस और गिरे हुओं का प्रयोग समाज के उन दरिद्र वर्गों के लिए किया गया है जो सामाजिक और आर्थिक स्तर पर अति निम्न हैं।
2.     ईश्वर को प्राप्त करने के लिए हमें ईश्वर की श्रेष्ठतम कृति मानव की निस्वार्थ भावना से सेवा करनी होगी तभी हमें ईश्वर की प्राप्ति हो सकती है। इसलिए कहा भी गया है, “मानव सेवा ही माधव सेवा है।”
3.     स्वर्ग देखने से कवि का अभिप्राय यह है कि लोग सुख-सुविधा के सामान जुटाने में व्यस्त हैं। वे भौतिक चीजों की प्राप्ति को ही जीवन की सच्ची उपलब्धि मान लेते हैं।  

मौखिक
1.     कवि ईश्वर से कष्ट सहने का वरदान चाहते हैं क्योंकि उन्हें पता है कि इस दुनिया में जड़ और चेतन जब भी कष्ट की प्रक्रिया से गुज़रते हैं तो उनमें निखार आ जाता है। पत्थर कष्ट सहकर मूर्ति और मनुष्य कष्ट सहकर अनुभवी और ऊर्जावान हो जाता है।
2.     कवि के अनुसार ईश्वर दीनों के यहाँ निवास करते हैं परंतु इस बात की जानकारी केवल कुछ लोगों को ही है। अन्य लोग की पूजा-अर्चना के लिए मंदिर जाना ही पसंद करते हैं।  वर्तमान समाज के बदलते स्वरूप को ध्यान में रखते हुए समाज में मंदिरों की आवश्यकता बढ़ रही है।    
3.     कविता का मूलभाव यह है कि मनुष्य जीवन एक बहुत ही सुनहरा अवसर है और हमें हर संभव प्रयास करके और इस दुनिया को और भी खूबसूरत बनाकर मानव जीवन को सफल बनाना ही चाहिए
आपकी अभिव्यक्ति
1.     मैं ईश्वर संबंधी कवि के विचारों से सहमत हूँ क्योंकि कवि ने ईश्वर की प्राप्ति का मार्ग मानव सेवा बताया है।
2.     कविता का काव्य सौंदर्य बड़ा पुष्ट है। कविता में कोमल शब्दों का चयन किया गया है, अनुप्रास अलंकार का भी बखूबी प्रयोग हुआ है। कविता की लयात्मकता कविता में जीवन का संचार करते-सी प्रतीत होती है।

1.     ईश्वर की भक्ति का असली मार्ग
2.     मानव सेवा ही माधव सेवा है। 
3.     दया किसी भी धर्म का मूलमंत्र होता है।
4.     मनुष्य को भौतिक सुख की तरफ नहीं आध्यात्मिक सुख की ओर आकर्षित होना चाहिए।

शब्दार्थ
1.                             कुंज = उपवन
2.                             दीन =गरीब
3.                             सदन = घर
4.                             द्वार = दरवाज़ा
5.                             बाट = रास्ता
6.                             जोहता = देखना
7.                             चमन = उपवन
8.                             रिझाना = प्रसन्न करना
9.                             पतित = गरीब
10.                        संगठन = Organisation
11.                        बेबस = लाचार, मजबूर
12.                        अधीर = जिसमें धीरज न हो
13.                        समर्थ = योग्य
14.                        सुयश = सुकीर्ति

विलोम
1.     दीन # धनी
2.     पतित # पावन 
3.     अधीर # धीर
4.     समर्थ # असमर्थ
5.     सुयश # अपयश  

पर्याय
1.                             कुंज = उपवन
2.                             दीन =गरीब
3.                             सदन = घर
4.                             द्वार = दरवाज़ा
5.                             बाट = रास्ता
6.                             जोहता = देखना
7.                             चमन = उपवन
8.                             रिझाना = प्रसन्न करना
9.                             पतित = गरीब
10.                        संगठन = Organisation
11.                        बेबस = लाचार, मजबूर
12.                        अधीर = जिसमें धीरज न हो
13.                        समर्थ = योग्य

उपसर्ग
1.     अधीर = अ + धीर
2.     समर्थ = सम + अर्थ
3.     सुयश = सु + यश